gtalks, एहसास मेरे साथ का, hindi shayari ,poetry in gtalks

एहसास मेरे साथ का

जिस तरह तू मुजमे रुब्बा है ,
मैं तो कही न कही तुझमे रुब्बा होऊंगा ,
तो सवाल सिर्फ इतना है पूरी नजम का ,
दाग तेरी रूह पर मेरे छूने के ,
अब भी उभरे होंगे ना ,
दाग तेरी रूह पर मेरे छूने के ,
अब भी उभरे होंगे ना ,
तुम कहते तो होंगे अब तुम याद नहीं ,
पर अल्फ़ाज़ तुम्हारी सोच मैं
मेरे अब भी उलझे होंगे न ,

तुम कहते तो होंगे अब तुम याद नहीं ,
पर अल्फ़ाज़ तुम्हारी सोच मैं
मेरे अब भी उलझे होंगे न ,

लेते होंगे करवट जब भी रातो मे
लेते होंगे करवट जब भी रातो मे
तो एहसास अब भी मेरे साथ का अब भी होता होगा ना ,
अच्छा छू लेते होंगे जब जिस्म कोई पराया सा ,
तब खुशबु मेरी रूह की याद तो आती होगी ना ,

अच्छा कभी सेर पर निकलते होंगे जब तुम ,
अच्छा कभी सेर पर निकलते होंगे जब तुम ,
तो उगलिया मेरी अब भी ढूढ़ा करती होगी न तुम ,
मुझे याद है है मुझे याद है ,
हाथो मे हाथ घुमा के तुम जो बोला करते थे ,
ये हाथ दूसरे के लिए बने है ,
खेर अब वक़्त बँट गया है अब समय के साथ ,
तुम भी अब मसरूफ हो कुछ अपनी ही रूमा मे ,
और मैं अक्सर अब भी बीते लम्हो का हाथ पकड़
के सैर पर निकल जाता हु ,
और मैं अक्सर अब भी बीते लम्हो का हाथ पकड़
के सैर पर निकल जाता हु ,

एक उम्र गुजरी थी जिनके सहारे ,
एक उम्र गुजरी थी जिनके सहारे
कल देर रात उन सभी यादो ने फांसी लगा ली ,
चल बसी वो कल सारी देर रात ,
एक उम्र इंतजार की काट कर
एक उम्र इंतज़ार की काट कर

gtalks , gtalks poetry , gtalk

Ehsas mere sath kaa

jis tarah tu mujme rubba hai ,
mai to kahi na kahi tujhme rubba houga ,
to sawal sirf itna hai puri najam kaa ,
to najam ki mai surwat krrta hu ,
dhaag teri rooh par mere chunne ke ,
ab bhi ubhre hoge naa ,
dhaag teri rooh par mere chunne ke ,
ab bhi ubhre hoge naa ,
tum kehte to hoge ab tum yaad nahi ,
par alfaz tumharoi soch mai
mere aab bhi uljhe hoge na ,

tum kehte to hoge ab tum yaad nahi ,
par alfaz tumharoi soch mai
mere aab bhi uljhe hoge na ,

lete hoge karwat jb bhi raato mai
lete hoge karwat jb bhi raato mai
to ehsas ab bhi mere sath kaa ab bhi hota hoga naa ,
acha chu lete honge jb jism koi paraya sa,
tb khushbu meri rooh ki yaad to aati hogi naa ,

acha kabhi ser par niklte hoge jab tum ,
acha kabhi ser par niklte hoge jab tum ,
to ugliya meri aab bhi dhuda karti hogi na tum ,
mujhe yaad hai ha mujhe yaad hai ,
haatho mai hath ghuma ke tum jo bola karte te ,
ye hath dusre ke liye bne hai ,
kher ab waqt bant gya hai ab samaye ke sath ,
tum bhi ab masroof ho kuch apni hi ruma mai ,
or mai aksar ab bhi beete lamho kaa hath pakad
ke sair par nikl jata hu ,
or mai aksar ab bhi beete lamho kaa hath pakad
ke sair par nikl jata hu ,

ek umar gujri thi jinke sahare ,
ek umar gujri thi jinke sahare
kl der raat un sabhi yaado ne fasi lga li ,
chal basi ho kl saari der raat,
ek umar interzar ki kaat kar
ek umar interzar ki kaat kar

Gtalks poetry written by chefy ashwani / G talks /

G talks Next

This Post Has One Comment

Leave a Reply