hindi poetry gtalks, Goonj Chand Poetry Lyrics Ye Kaisa Pyar Hai Tumhara | Gtalks, hindi shayari ,poetry in gtalks

Goonj Chand Poetry Lyrics Ye Kaisa Pyar Hai Tumhara | Gtalks

Goonj Chand Poetry Lyrics:- ये कैसा प्यार है तुम्हारा hindi Love Poetry Lyrics , hindi poetry , Written And Performed By Goonj Chand Labeled With GTalks.

कैसा प्यार है तुम्हारा

यह कैसा प्यार है तुम्हारा जो ना दिखाई देता है ना सुनाई देता है ,
जिसमें प्यार के नाम पर सिर्फ साथ रहना और खाना ही दिखाई देता है

यह कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें शर्ते हैं लड़ाई है और रुसवाई है
क्या अपनी मर्जी से तुमने मेरे साथ कोई पिक खींचवाई है

यह कैसा प्यार है तुम्हारा जिसका कभी मुझे एहसास नहीं हुआ
ओर पास होते हुए भी तू मेरे पास नहीं होता

यह कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें जिस्म तो साथ हैं पर रूह साथ में नहीं
और क्यों इस प्यार में प्यार वाली कोई बात नहीं

यह कैसा प्यार है तुम्हारा जो सिर्फ मेरे लिए ही इतना सख्त है ,
क्यों मुझे छोड़ कर तुम्हारे पास PUBG तक के लिए वक़्त है

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जो दुनिया के डर से सिमट सा जाता है
ओर बताओ तो जरा वो लम्हा जब बेवजह तुम्हे मुझ पर प्यार आता है

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें मैं I Love You Too सुनना चाहती हूं
ओर कभी तो तुम्हारे मुंह से खुद I Love You सुनना चाहती हूं

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें तुमसे मेरे बालों को कभी सवारा नहीं जाता
ओर मेरे बिना कहे मुझे गले से लगाया नहीं जाता

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें सिर्फ चुभन ही चुभन ही
ओर क्यू हो रही इस रिश्ते में अब मुझे घुटन है

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जो अपने प्यार को इतना तड़पाता है
ओर तुम्हारा ये नजरअंदाज करना मुझसे अब सहा नहीं जाता

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें केह दे ते हो की तुम्हे प्यार जताना नहीं आता
पर सच तो ये है कि शायद तुम्हे प्यार निभाना नहीं आता

ये कैसा प्यार है तुम्हारा जिसमें प्यार जताना इतना मुश्किल है
आखिर क्यूं तुम्हारा दिल इतना बुजदिल है


यह भी पढ़ें:- Goonj Chand Hum Yu Hi Toh Na Miley Honge | Poetry | G Talks

aakhri mohabat

आशा करते है आपको ये Ye Kaisa Pyar Hai Tumhara Poetry By Goonj Chand पसन्द आयी होगी इस को पढ़ने के लिए धन्यवाद |


ye kesa payar hai tumhara

ye kesa payar hai tumhara jo na dikhai deta hai na sunai deta hai
jisme payar ke nam par sirf sath rehna or khana hi dikahi deta hai

ye kesa payar hai tumhara jisme sarte hai ladai hai or ruswai hai ,
kya apni marji se tumne mere sath koi pic kichwai hai ,

ye kesa payar hai tumhara jiska kabhi mujhe ehsas nahi hua ,
or mere pas hote hue bhi bhi tu mere pas nahi hota ,

ye kesa payar hai tumhara jisme jism to sath hai rooh sath mai nahi ,
or kyu iss payar mai payar vali koi baat nahi ,

ye kesa payar hai tumhara jisme tumse mere baalo ko kabhi sawara nhi jata

ye kesa payar hai tumhara jo sirf mere liye itna shaqt hai ,
kyu mujhe shod kar tumhaare pas PUBG tak ke liye waqt hai ,

ye kesa payar hai tumhara jo dunia ke dar se simat sa jata hai ,
or batao to jara vo lamha jab bewagh tume mujh par payar aata tha ,

ye kesa payar hai tumhara jisme I LOVE YOU TOO suna chahti hu ,
or kabhi to tumhare muh se khud I LOVE YOU suna chahati hu ,

ye kesa payar hai tumhara jo tumse mere balo ko swara nahi jata
or mere bina kahe mujhe gale se lgya nahi jata ,

ye kesa payar hai tumhara jisme sirf chubhan hi chubhan hi
or kiu ho rahi iss rishte mai ab mujhe ghutan hai ,

ye kesa payar hai tumhara jo apne payar ko itna tadpata hai ,
or tumhara ye najarandaj karna ab mujhse nahi -saha jata hai ,

ye kesa payar hai tumhara jisme keh ddete ho ki tumhe itna payar jatana nahi ata ,
par sach to ye hai ki sayad tumhe payar nibhana nahi ata,

ye kesa payar hai tumhara jisme payar jatana muskil hai
akhir kiu tumhara payar itna bujdil hai

Ye Kaisa Pyar Hai Tumhara Poetry Video

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply