gtalks, Gtalks poetry aakhri mohabbat, hindi shayari ,poetry in gtalks

Gtalks poetry aakhri mohabbat

आखरी मोहब्बत

तेरी पहली मोहबत न होने का मलाल नहीं
तेरी पहली मोहबत न होने का मलाल नहीं ,
मै तो तेरी आखरी मोहबात होना चाहती हु ,
अक्सर लोग कहते है पहला प्यार बहुत aacha होता hai ,


पर मेरी नजर मै पहला प्यार कच्चा होता ह ,
आखरी प्यार ही सच्चा होता है ,
जो टूटने से भी न टूटते ,
तेरी ज़िन्दगी का ऐसा मांझा बना चाहती हु ,
तेरी पहली मोहबत न होने का मलाल नहीं ,
मै तो तेरी आखरी मोहबत होना छाती हु ,


प्यार वो नहीं जो दो दिन के कसमे वादे
करके के तीसरे दिन टूट जाता है ,
प्यार वो नहीं जो दो दिन के कसमे वादे
करके के तीसरे दिन टूट जाता है ,
प्यार तो वो है जो सात फेरो मै बंद ,
कर मांग के सिन्दूर तक जाता है ,

मै भी तेरी ज़िन्दगी मै तेरी ,
अर्धाग्नि बनाकर आना छाती हु ,
पहली मोहबात न होने का मलाल नहीं ,
मै तो तेरी आखरी मोहबत होना चाहती हु ,

पहली मोहब्बत को अक्सर मेने बिस्तर पर दम तोड़ते देखा है ,
पहली मोहब्बत को अक्सर मेने बिस्तर पर दम तोड़ते देखा है ,
और आखरी मोहबत मै मेने मुर्दे को जिन्दा होते देखा है ,

राधा और मीरा सा प्यार नहीं ,
मै तो तेरी रुख्मणि चाहती हु ,
तेरी पहली मोहबत न होने का मलाल नहीं ,
मै तो तेरी आखरी mohabaat होना चाहती हु ,

Aakhri mohabbat

Gtalks by goonj chand

teri pehli mohbaat na hone ka malal nahi ,
teri pehli mohbaat na hone ka malal nahi ,
mai to teri aakhri mohabaat hona chati hu ,

aksar log kehte hai pehla paayr bhut acha hota hai ,
par meri najar mai pehla payar kaccha hota h,
aakhri payar hi saccha hota hai ,
jo tuttne se bhi na tutte,

teri zindagi ka aisa manjha bana chahti hu ,
teri pehli mohbaat na hone ka malal nahi ,
mai to teri aakhri mohabaat hona chati hu ,
payar vo nahi jo do din ke kasame vaade

karke ke teesre din tut jata hai ,
payar vo nahi jo do din ke kasame vaade
karke ke teesre din tut jata hai ,
payar to vo hai jo saat fero mai band ,

kar mang ke sidoor tak jata hai ,
mai bhi teri zindagi mai teri ,
ardhagni bnakr ana chati hu ,
pehli mohbaat na hone ka malal nahi ,

mai to teri aakhri mohabaat hona chati hu ,
pehli mohabbat ko aksar mene bistar par dum todte dekha hai ,
pehli mohabbat ko aksar mene bistar par dum todte dekha hai ,
orr aakhri mohabat mai mene murde ko jinda hote dekha hai ,

radha or meera sa paayar nahi ,
mai to teri rukhmani chati hu ,
teri pehli mohbaat na hone ka malal nahi ,
mai to teri aakhri mohabaat hona chati hu ,

Gtalks poetry written by goonj chand

Gtalks

hindi poetry

online shop martall

Leave a Reply