gtalks poetry by goonj chand, हम यूही तो न मिले होंगे, hindi shayari ,poetry in gtalks

हम यूही तो न मिले होंगे

gtalks poetry by goonj chand

मेरे बिना तुझे भी अपनी
ज़िन्दगी से कुछ गीले होंगे ,
मेरे बिना तुझे भी अपनी
ज़िन्दगी से कुछ गीले होंगे ,
हम यूही तो न मिले होंगे ,

तूफ़ा आया घर मैं मेरे ,
कुछ हवा के जोहके ,
कुछ हवा के झोके ,
तेरे घर मै भी पोहचे होंगे ,

बिखर गया है पूरा घर मेरा ,
कुछ परदे तेरे घर
के भी उड़े होंगे ,
हम यूही तो न मिले होंगे ,

इतना आसान नहीं है ,
मुझे भुला पाना ,
पुरे न सही कुछ लम्हे
तुम्हे भी तो याद होंगे ,

अश्क़ तो नहीं निकले होंगे
तेरी आँखों से ये जानती हु मैं ,
पर बातो बातो मैं कुछ
किस्से मेरे भी तो निकले होंगे ,
हम यूही तो ना मिले होंगे ,

अब सावन से भी इतराज होगा तुझे शायद
पर हम न सही वो चाय
पकोड़े तो तेरे साथ होंगे ,
और दोबरा न मिल पाए तो गम केसा
हम खाव्बो मैं तो अक्सर मिले होंगे ,
हम यूही तो ना मिले होंगे ,

यादे ही काफी है एक दूसरे
मैं ज़िंदा रहने के लिए ,
जरुरी तो नहीं ,
हर प्यार करने वाले साथ रहे होंगे ,

मेरी खामोसी को मेरी बेवफाई मत समझना ,
अगर खामोश हु तो उसको मज़बूरी मत समझना ,
हो सकता है तेरी ही मजबूरी के
कारण मेने अपने होंठ सिले होंगे
हम यूही तो न मिले होंगे ,

मेरे बिना तुझे भी अपनी
ज़िन्दगी से कुछ गीले होंगे ,
हम यूही तो न मिले होंगे ,

HUM yuhi to na mile honge

mere bina tujhe bi apni
zindagi se kuch gile honge ,
mere bina tujhe bi apni
zindagi se kuch gile honge ,
hum yuhi to na mile honge ,

tufaa aya gar mai mere ,
kuch hafa ke johke ,
kuch hawa ke jhoke ,
tere gar mai bhi poche honge ,

bikhar gya hai pura gar mera ,
kuch parde tere gar
ke bhi ude hoge ,
hum yuhi to na mile honge ,

aashaq to nahi nikle honge
teri aankho se ye janti hu mai ,
par baato baato mai kuch
kisse mere bhi to nikle honge ,
hum yuhi to naa mile honge ,

ab sawan se bhi itraj hoga tujhe shayad
par hum na sahi vo chai
pkode to tere sath hoge ,
or dobra na mil paye to gum kesa
hum khawbo mai to aksar mile honge ,
hum yuhi to naa mile honge ,

yaade hi kafi hai ek dusre
mai zinda rehne ke liye ,
jaruri to nahi ,
har paayr krne vale sath rahe honge ,

meri khamosi ko meri bewafi mt samjna,
agar khamosh hu to usko majburi mat samjna ,
ho skta hai teri hi majburi ke
karaan mene apne honth sile honge
hum yuhi to na mile honge ,

mere bina tujhe bhi apni
zindagi se kuch gile honge ,
hum yuhi to na mile honge ,

gtalks poetry written by goonj chand

goonj chand , gtalks , Gtalks , gtalk

shayari

songs lyrics

This Post Has One Comment

Leave a Reply