MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT

MERE GAON KE SCHOOL

MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT|Gtalks poetry in hindi

मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत

मुझे देख कभी शर्म से झुका लेती थी वो नजरे
आज वो सामने से आकर मुझे गले लगाया करती है ,MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT

जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है
जो अक्सर फेक देती थी अक्सर सिगरेट लेकर मेरे हाथो से
आज वो लड़को के साथ बैठ कर सुट्टा लगाया करती है
जो कभी कस्मे दिया करती थी मुझे दारु के नाम पर
आज वो दोस्ती के नाम पर पेग लगाया करती है
जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है

जो खुद कभी सफ़ेद सूट पर लाल दुपट्टे से सादगी बिखेरा करती थी
आज वो सूट पहने वाली लड़कियों को गवार बताया करती है
जिसके लिए कभी सबसे ऊपर थी गरवालो की इज्जत ,
वो लड़की आज अपने माँ बाप से जवान लड़ाया करती है
जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है

और कभी गांव के कुए से पानी पिया करती थी वो
जो आज घर आते ही बिसलेरी की बोतल मंगाया करती है
बड़ा प्यार था उसे कभी अपने गांव की मिटटी से ,
जो आज हर बात पर शहर की फैसिलिटी गिनाया करती है
जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है

मुझे छोड़ने के ख्याल से भी कभी डर जाया करती थी वो
जो आज मुझे सिर्फ अपना अच्छा दोस्त बताया करती है
और अब नहीं रही वो मेरे गांव की पुराणी सी लड़की
वो तो अब अपने अंदर चलता फिरता शहर दिखाया करती है
जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है

मुझे देख कभी शर्म से झुका लेती थी वो नजरे
आज वो सामने से आकर मुझे गले लगाया करती है ,
जी हां मेरे गांव के स्कूल की मोहब्बत अब शहर के कॉलेज जाया करती है

Gtalks, shayari , goonj chand poetry

MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT|Gtalks poetry in hindi

mujhe dekh kabhi shaarm se ghuka leti thi ti vo najre
aaj vo samne se aakar mujhe gale lagaya karti hai ,

ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai
jo aksar fake dekti ti aksar cigrate lekr mere haatho se
aaj vo ladko ke sath baith kar sutta lagaya karti hai
jo kabhi kasme dia karti thi mujhe daaru ke nam par
aj vo dosti ke naam par peg lagaya karti hai
ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai

jo khud kabhi safed suit par laal dupatte se sadagi bikera karti thi
aj vo suit pehne vali ladkiyo ko gawar bataya karti hai
jiske liye kabhi sabse upar thi garwalo ki ijat ,
vo ladki aaj apne maa baap se jawan ladaya karti hai
ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai

or kabhi gav ke kuye se pani pia karti thi vo
jo aaj gar aate hi bisleri ki bottle mangaya karti hai
bada paayr tha usye kabhi apne gav ki mitti se ,
jo aaj haar baat par sehar ki facility ginaya karti hai
ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai

mujhe shodne ke kahyal se bhi kabhi dar jaya karti thi vo
jo aaj mujhe sirf apna acha dost btaya karti hai
or ab nahi rahi vo mere gav ki purani si ladki
vo to ab apne andar chlta firta sehar dikhaya karti hai
ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai

mujhe dekh kabhi shaarm se ghuka leti thi ti vo najre
aaj vo samne se aakar mujhe gale lagaya karti hai ,
ji haa mere gav ke school ki mohabbat ab sehar ke college jaya karti hai

MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT


MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT

gtalks online poetry in hindi |gtalks poetry lyrics |Gtalk|goonj chand poetry |gtalks lyrics in hindi|gtalks |MERE GAON KE SCHOOL KI MOHABBAT poetry in hindi

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply