payar mera gtalks  poetry

payar mera gtalks poetry

प्यार मेरा ऐसा जैसे कोई बुरी आदत हो मेरी

प्यार मेरा ऐसा जैसे कोई
बुरी आदत हो मेरी ,
देखे बिना तुम्हे एक भी दिन गुजरता ना था ,
डरने लगी थी खुद से ,

तेरी मोहब्बत ने मजबूर कुछ ऐसा किआ ,
बहुत बेबस बहुत लाचार मेरा खुद पर ही ,
बस चलता न था ,

नफरत थी इस बेबसी से ,
नफरत थी इस बेबसी से
पर मेरी ज़िन्दगी बन गए ते तुम ,
ज़िन्दगी कहना तो शायद कम होगा ,

मेरी तो पूरी दुनिआ ही थे तुम ,
सोचती हु कभी कभी तेरी किस बात पर इतना प्यार आया ,
फिर जवाब मिले भी तो कैसे ,
मुझे तो तेरी हर बात पर प्यार आया ,

चाहे वो तेरा अंदाज था या ,
वो गहरी बोलती नजरे ,
धीरे से मुझे छू जाना ,
या पलट कर मुझे देखना ,
और भी बहुत कुछ था ,
जो मोम की तरह पिघला देता था मुझे ,
ना चहु तब भी तेरी और झुका देता था मुझे ,
पर तुम अब नहीं हो कहि नहीं हो ,
ना तेरे होने का एहसास बाकि है ,

पर तुम अब नहीं हो कहि नहीं हो ,
ना तेरे होने का एहसास बाकि है ,
छूट गया है वक़्त हाथ से बस तेरी यादे वो बाकि है ,
सोचा ना कभी हर चीज़ के लिए तड़पना पड़ेगा ,
सोचा ना कभी हर चीज़ के लिए तड़पना पड़ेगा ,
मिलना तो दूर तुझे देखने के लिए भी तरसना पड़ेगा ,
जानती हु तुम मेरे नहीं हो ,
पर तेरे प्यार पर हक़ मेरा था ,

तेरे जाने से वापिस आने तक तेरे हर उस इंतज़ार पर हक़ सिर्फ मेरा था ,
केहदु अब पायर नहीं तुझसे ,
तो मुझसे धोका होगा ,
तेरा इंतज़ार करना छोड़ दिया ,
वो और भी बड़ा धोका होगा ,

पर अब तुझे नहीं कहुगी कितना प्यार है तुझसे ,
अब तुझसे नहीं कहुगी कितना पायर है तुझसे ,
पत्थर बन जाऊगी इतना इतबार है खुद पे ,
की नहीं जी सकती तेरे लिए अब ,

तेरी हर बात की तरह तेरा प्यार भी अधूरा लगता है ,
रेत की दिवार बन जाऊगी तेरे आगे फिर टूट जाने से डर लगता है ,
रेत की दिवार बन जाऊगी तेरे आगे फिर टूट जाने से डर लगता है ,

gtalks

payar mera aisa ta jese koi
buri aadat ho meri ,

payar mera aisa ta jese koi
buri aadat ho meri ,
dekhna bina tumhe ek bhi din gujrta naa tha ,
darne lagi thi khud se ,
teri mohabbat ne majbur kuch aisa kia ,
bhut bebas bhut lachar mera khud par hi ,

bas chalta na taa ,
nafrat thi iss bebasi se ,
nafrat thi iss bebasi se
par meri zindagi ban gaye te tum ,
zindagi kehna to shayad km hoga ,
meri to puri dunia hi te tum ,

sochti hu kabhi kabhi teri kis baat par itna payar aya ,
fir jawab mile bhi to kese ,
mujhe to teri baat par payar aya ,
chahe vo tera andaj ta ya ,
vo gehri bolti najre ,
dheere se mujhe chu jana ,
ya palat kar mujhe dekhna ,
orr bhi bhut kuch tha ,


jo mom ki tarah pighla deta tha mujhe ,
naa chahu tab bhi teri or jhuka deta ta mujhe ,
par tum ab nhi ho khi nhi ho,
naa tere hone kaa ehsas baki hai ,
par tum ab nhi ho khi nhi ho,
naa tere hone kaa ehsas baki hai ,
chut gya hai waqt hath se bas teri yaade ho baki hai ,
socha naa kabhi har cheez ke liye tadpna pdega ,
socha naa kabhi har cheez ke liye tadpna pdega ,
milna to dur tujhe dekhne ke liye bhi tarasna pdega ,
janti hu tum mere nahi ho ,

par tere payar par haq mera tha,
tere jane se vapis ane tak tere har us intezar par haq sirf mera tha ,
kehdu ab paayr nahi tujhse ,
to mujhse dhoka hoga ,
tera intezar krna shod dia ,
vo orr bhi badaa dhoka hoga ,


par ab tujhe nahi kahugi kitna payar hai tujhse ,
ab tujhse nhi kahugi kitna paayr hai tujhse ,
patthar bn jaugi itna itbar hai khud pe ,
ki nahi jii skti tere liye ab ,


teri haar baat ki tarah tera paayr bhi adhura lgta hai ,
ret ki diwar ban jaugi tere aage fir tut jane se dar lgta hai ,
ret ki diwar ban jaugi tere aage fir tut jane se dar lgta hai ,’

Gtalks poetry written by supreet kaur

This Post Has One Comment

Leave a Reply